Saturday, July 5, 2008

Sai Ki Marzi - Nice song in slow rhythm




Nice song in slow rhythm, good song with nice lyrics.

Lyrics or text or words of this devotional song in English and Hindi script

Leta ja tu likh likh arji, kya phal dena Sai ki marzi
naahi chalti hai yahan kisi ki vinti hai farji

Usko Khabar hai, kya tere man main re, kya tere man mai
jane kitne ko teri lagan main teri lagan mai
Uske ghume hai nazar dinbhar idhar bhi udhar bhi,

Leta ja tu likh likh arji, kya phal dena Sai ki marzi

Shraddha main na hota koi bhi deekhawa re, koi dikhawa
pata Use kya sach hai, kya hai chalawa re, kya hai chalawa
Woh to dekhe re sab, tuj ko jara na sabar bhi,

Leta ja tu likh likh arji, kya phal dena Sai ki marzi

Bhawna hai sachi yaha jis insan ki, jis insan ki
prem se usko deta sare jahan ki, sare jahan ki
Uske haatho main re hai o bande naiyan bhi bhavar bhi

Leta ja tu likh likh arji, kya phal dena Sai ki marzi (2)




लेता जा तू लिख लिख अर्जी, क्या फल देना साई की मर्ज़ी,
नाही चलती है यहाँ किसी की विन्ती है फर्जी

उसको ख़बर है, क्या तेरे मन मैं रे, क्या तेरे मन मे
जाने वोह कितने को तेरी लगन मैं रे तेरी लगन मे
उसकी घुमे है नज़र दिनभर इधर भी, उधर भी,

लेता जा तू लिख लिख अर्जी, क्या फल देना साई की मरज़ी

श्रद्धा मैं ना होता कोई भी दिखावा रे, कोई दिखावा
पता उसे क्या सच है, क्या है छलावा रे, क्या है छलावा
वोह तो देखे रे सब, तुज को जरा न सबर भी,

लेता जा तू लिख लिख अर्जी, क्या फल देना साई की मरज़ी

भावना है सचि यहाँ जिस इन्सान की, जिस इन्सान की
प्रेम से उसको देता सारे जहाँ की, सारे जहाँ की
उसके हाथो मैं रे है ओ बन्दे नैया भी भावर भी

लेता जा तू लिख लिख अर्जी, क्या फल देना साई की मरज़ी (२)

No comments:

Post a Comment

Share your feelings with this song.